पुलियोधरै रेसिपी | puliyodharai in hindi | मंदिर शैली टैमरिंड राइस

इस पोस्ट अन्य भाषा में उपलब्ध है अंग्रेज़ी (English), और ಕನ್ನಡ (Kannada)

पुलियोधरै रेसिपी | मंदिर शैली पुलियोधरै चावल या टैमरिंड राइस विस्तृत फोटो और वीडियो रेसिपी के साथ। मूल रूप से एक खट्टा और मसालेदार चावल का रेसिपी है, जो मुख्य रूप से दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु में विशेष रूप से हिंदू मंदिरों में तैयार किया जाता है। इसे प्रसादम या निवेद्यम के रूप में चढ़ाया जाता है और फिर भक्तों को परोसा जाता है। इसके अलावा इसे विशेष अवसरों और त्योहारों के मौसम के दौरान भी तैयार किया जाता है और उत्सव की दावत के दौरान परोसा जाता है।पुलियोधरै रेसिपीपुलियोधरै रेसिपी | मंदिर शैली पुलियोधरै चावल या टैमरिंड राइस स्टेप बाइ स्टेप फोटो और वीडियो रेसिपी के साथ। शायद यह सबसे आसान और सरल दक्षिण भारतीय चावल की रेसिपी में से एक है। पुलियोधरै पोडी या पुलियोधरै मिक्स को पहले से ही अच्छी तरह से तैयार किया जा सकता है और एक एयर टाइट कंटेनर में संग्रहीत किया जा सकता है। मूल रूप से मसाला मिक्स को इमली और पके हुए चावल के साथ मिलाकर पुलियोधरै तैयार किया जा सकता है।

इस सरल टैमरिंड राइस रेसिपी के कई तरीके और किस्में हैं। विविधताएं प्रत्येक राज्य में भिन्न होती हैं और उन्हें अलग-अलग नामों से जाना जाता है। कर्नाटक में यही रेसिपी तैयार की जाती है और उसमें कद्दूकस किया हुआ नारियल डालकर बढ़ाया जाता है। कन्नड़ में इसे पुलियोगरे के रूप में जाना जाता है जिसका अर्थ है खट्टा और तड़का। आंध्र या तेलुगु व्यंजन में इमली चावल को पुलिहोरा के रूप में जाना जाता है जो इमली चावल का एक सूक्ष्म संस्करण है। इसे सिर्फ इमली, मिर्च और गुड़ के साथ बिना ज्यादा मसाले के तैयार किया जाता है। इसके अलावा कुछ भिन्नता में प्याज और लहसुन भी शामिल हो सकता हैं और चावल को मिलाने से पहले तड़के में मिलाया जाता है।

मंदिर शैली पुलियोधरै चावल या टामारिंड राइसतमिल शैली टैमरिंड राइस रेसिपी तैयार करते समय कुछ आसान टिप्स और सिफारिशों पर विचार किया जाना चाहिए। सबसे पहले इमली के अर्क को तब तक पकाएं जब तक तेल किनारों से छोड़ दिया जाता है, नहीं तो इमली की कच्ची महक आ जाएगी। इसके अलावा, आप जिस सांद्रण की तलाश कर रहे हैं, उसके आधार पर चावल की मात्रा को समायोजित करें। अंत में, बचे हुए चावल का उपयोग करें / चावल को पुलिकाचल के साथ मिलाने से पहले पूरी तरह से ठंडा कर लें।

अंत में मैं मंदिर शैली पुलियोधरै चावल रेसिपी के इस पोस्ट के साथ अपने अन्य चावल की रेसिपी व्यंजनों का संग्रह को उजागर करना चाहूंगी। विशेष रूप से, वेज पुलाव, लेमन राइस, मेथी राइस, मैंगो राइस, कॉर्न पुलाव, मसले भट, सांभर राइस, कैप्सिकम राइस, टोमैटो राइस, जीरा राइस और पुदीना राइस रेसिपी। इसके अलावा मैं आपसे अनुरोध करती हूँ कि आप मेरे अन्य व्यंजनों के संग्रह पर जाएँ जैसे,

मंदिर शैली पुलियोधरै वीडियो रेसिपी:

मंदिर शैली टैमरिंड राइस रेसिपी के लिए रेसिपी कार्ड:

puliyodharai recipe

पुलियोधरै रेसिपी | puliyodharai in hindi | मंदिर शैली टैमरिंड राइस

0 from 0 votes
तैयारी का समय: 15 minutes
पकाने का समय: 20 minutes
कुल समय: 35 minutes
कितने लोगों के लिए: 3 सर्विंग्स
AUTHOR: HEBBARS KITCHEN
कोर्स: चावल
पाक शैली: दक्षिण भारतीय
कीवर्ड: पुलियोधरै रेसिपी
प्रिन्ट रेसिपी पिन रेसिपी
आसान पुलियोधरै रेसिपी | मंदिर शैली टैमरिंड राइस

सामग्री

पुलियोधरै मसाला पाउडर के लिए:

  • 1 टी स्पून तिल का तेल / जिंजेली ऑइल / नल्ल एन्नै
  • 1 टी स्पून धनिया के बीज
  • 2 टी स्पून उड़द की दाल
  • 2 टी स्पून चना दाल
  • ½ टी स्पून काली मिर्च
  • ¼ टी स्पून मेथी
  • 4 सूखी काश्मिरि लाल मिर्च
  • 1 टेबल स्पून तिल

अन्य सामग्री:

  • 2 टेबल स्पून तिल का तेल / जिंजेली तेल
  • 1 टी स्पून सरसों
  • ½ टी स्पून उड़द की दाल
  • ½ टी स्पून चना दाल
  • 2 टेबल स्पून मूंगफली, भुना हुआ
  • 1 सूखी कश्मीरी लाल मिर्च, टूटी हुई
  • कुछ करी पत्ते
  • चुटकी भर हिंग
  • 1 कप इमली का अर्क
  • ¼ टी स्पून हल्दी
  • ½ टी स्पून गुड़
  • 1 टी स्पून नमक
  • 3 कप पके हुए चावल

अनुदेश

  • सबसे पहले एक चौड़े पैन में 1 टीस्पून तिल का तेल गर्म करें।
  • उसमें 1 टीस्पून धनिया के बीज, 2 टीस्पून उड़द की दाल, 2 टीस्पून चना दाल, ½ टीस्पून काली मिर्च, ¼ टीस्पून मेथी और 4 सूखी लाल मिर्च को धीमी आंच पर भूनें।
  • और 1 टेबलस्पून तिल को सुनहरा भूरा होने तक भूनें।
  • मसाले को पूरी तरह से ठंडा होने दें और एक छोटे मिक्सी जार में स्थानांतरित करें।
  • बिना पानी मिलाए बारीक पाउडर के लिए ब्लेंड करें। पुलियोधरै मसाला पाउडर तैयार है।
  • अब एक बड़ी कड़ाई में 2 -3 टेबलस्पून जिंजेली तेल गरम करें।
  • इसमें 1 टीस्पून सरसों, ½ टीस्पून उड़द दाल, ½ टीस्पून चना दाल और 2 टेबलस्पून मूंगफली डालें। सरसों के बीज फूटने तक तलें।
  • आगे 1 लाल मिर्च, कुछ करी पत्ते और चुटकी भर हिंग डालें। कुछ सेकंड के लिए तलें।
  • 30 मिनट के लिए 1 कप गर्म पानी में भिगोए गए एक गेंद के आकार की इमली से रस निचोड़ें।
  • इसमें ¼ टीस्पून हल्दी, ½ टीस्पून गुड़ और 1 टीस्पून नमक भी मिलाएं।
  • अच्छी तरह से मिलाएं और मिश्रण को 10 मिनट तक उबालें।
  • मिश्रण से तेल अलग होने तक उबालते रहें।
  • इसके अलावा मसाले के स्तर के आधार पर 2-3 टेबलस्पून तैयार पुलियोधरै मसाला पाउडर डालें।
  • तब तक पकना जारी रखें जब तक तेल किनारों से अलग न हो जाए। पुलिकाचल तैयार है। आप एक एयरटाइट कंटेनर में स्टोर कर सकते हैं और आवश्यकता होने पर मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं।
  • अब 3 कप पके हुए चावल डालें और धीरे से मिलाएँ।
  • अंत में, पुलियोधरै - मंदिर शैली परोसने के लिए तैयार है।
क्या आपने यह नुस्खा आजमाया?अगर किया तोह एक तस्वीर क्लिक करें और इंस्टाग्राम या ट्विटर पर @hebbars.kitchen या टैग #hebbarskitchen का उल्लेख करें
हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करेहमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब और हमारे लेटेस्ट वीडियो रेसिपी के साथ अपडेट रहने के लिए यहां क्लिक करें

स्टेप बाइ स्टेप फोटो के साथ पुलियोधरै रेसिपी कैसे बनाएं:

  1. सबसे पहले एक चौड़े पैन में 1 टीस्पून तिल का तेल गर्म करें।
  2. उसमें 1 टीस्पून धनिया के बीज, 2 टीस्पून उड़द की दाल, 2 टीस्पून चना दाल, ½ टीस्पून काली मिर्च, ¼ टीस्पून मेथी और 4 सूखी लाल मिर्च को धीमी आंच पर भूनें।
  3. और 1 टेबलस्पून तिल को सुनहरा भूरा होने तक भूनें।
  4. मसाले को पूरी तरह से ठंडा होने दें और एक छोटे मिक्सी जार में स्थानांतरित करें।
  5. बिना पानी मिलाए बारीक पाउडर के लिए ब्लेंड करें। पुलियोधरै मसाला पाउडर तैयार है।
  6. अब एक बड़ी कड़ाई में 2 -3 टेबलस्पून जिंजेली तेल गरम करें।
  7. इसमें 1 टीस्पून सरसों, ½ टीस्पून उड़द दाल, ½ टीस्पून चना दाल और 2 टेबलस्पून मूंगफली डालें। सरसों के बीज फूटने तक तलें।
  8. आगे 1 लाल मिर्च, कुछ करी पत्ते और चुटकी भर हिंग डालें। कुछ सेकंड के लिए तलें।
  9. 30 मिनट के लिए 1 कप गर्म पानी में भिगोए गए एक गेंद के आकार की इमली से रस निचोड़ें।
  10. इसमें ¼ टीस्पून हल्दी, ½ टीस्पून गुड़ और 1 टीस्पून नमक भी मिलाएं।
  11. अच्छी तरह से मिलाएं और मिश्रण को 10 मिनट तक उबालें।
  12. मिश्रण से तेल अलग होने तक उबालते रहें।
  13. इसके अलावा मसाले के स्तर के आधार पर 2-3 टेबलस्पून तैयार पुलियोधरै मसाला पाउडर डालें।
  14. तब तक पकना जारी रखें जब तक तेल किनारों से अलग न हो जाए। पुलिकाचल तैयार है। आप एक एयरटाइट कंटेनर में स्टोर कर सकते हैं और आवश्यकता होने पर मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं।
  15. अब 3 कप पके हुए चावल डालें और धीरे से मिलाएँ।
  16. अंत में, पुलियोधरै – मंदिर शैली परोसने के लिए तैयार है।
    पुलियोधरै रेसिपी

टिप्पणियाँ:

  • सबसे पहले, मिश्रण (पुलिकाचल) तैयार करें और आवश्यकता होने पर चावल मिलाएं। अच्छी तरह से पकने पर पुलिकाचल एक महीने तक अच्छा रहता है।
  • अपनी पसंद के आधार पर टामारिंड राइस की गाढ़ापन को भी समायोजित करें।
  • इसके अतिरिक्त, अगर स्टोर से खरीदी हुई इमली के गूदे का उपयोग किया जाए, तो पानी में घोलें और फिर डालें।
  • अंत में, जिंजेली तेल – नल्ल एन्नै के साथ तैयार होने पर पुलियोधरै / पुलियोगरे का स्वाद बहुत अच्छा लगता है।
इस पोस्ट अन्य भाषा में उपलब्ध है अंग्रेज़ी (English), और ಕನ್ನಡ (Kannada)
street food recipes[sp_wpcarousel id="55071"]
related articles